Sahitya Samhita

साहित्य संहिता (Sahitya Samhita) एक बहुयामी अन्तेराष्ट्रीय पत्रिका है. इस जर्नल का ISSN no. 2454-2695 है. इस जर्नल का प्रकाशन हर महीने किया जाता है. इस जर्नल में हम कला, साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र के शोधार्थियों और अध्येताओं के शोध-पत्र आमंत्रित करतें हैं. इस शोध-पत्रिका में हम उत्कृष्ट शोध-पत्रों  एवं नवीन काव्य/कविता को ही वरीयता देतें हैं. इस शोध-पत्रिका का मुख्य उद्देश्य साहित्य की सेवा करना है. इस शोध-पत्रिका में प्रकाशित सभी शोध-पत्रों को पारितोषिक स्वरूप साहित्यिक पुस्तके प्रदान की जायेंगी.

शोध-पत्रिका के माध्यम से हम हिंदी को नए बुलंदियों पे ले जाना चाहते हैं. लेखकों से अनुरोध है की कृप्या अच्छे शोध-पत्र ही हमें भेजे तथा प्रकाशित करने का कोई भी दबाव बनाने को कोशिश न करें. इसका पूरा अधिकार संपादक-मंडल के पास सुरक्षित है. उन्ही शोध-पत्रों को प्रकाशित किया जायेगा जिसके संस्तुति प्रधान-संपादक करेंगे.

अपनी लेख, कविता व् शोधपत्र निम्नलिखित ईमेल पर भेजें

 submit2hss@gmail.com or

submit@sahityasamhita.org


Announcements

 
No announcements have been published.
 
More Announcements...

Vol 3, No 7 (2017): VOL-03_ISSUE-07_July_2017

इंटरनेशनल जर्नल पत्रिका का प्राइम फोकस हिंदी की पढ़ाई से संबंधित लेख प्रकाशित करने के लिए है। यह पत्रिका हिन्दी अनुसंधान में छात्रों और कर्मियों को प्रेरित करने के उद्देश्य के साथ मंच प्रदान करता है। हिन्दी साहित्यए प्राचीन भारतीय विज्ञान (हिन्दी में), संगणना भाषा विज्ञान, संस्कृति, महाकाव्य, व्याकरण, इतिहास, भारतीय सौंदर्य और राजनीति, पुराणों, धर्म, साहित्य, वेद, वैदिक अध्ययन, बौद्ध साहित्य, भारतीय और पश्चिमी तार्किक सिस्टम, भारतीय प्रवचन विश्लेषण, भारतीय दर्शन, भारतीय सामाजिक-राजनीतिक चिंतन, प्दकवसवहपबंस अध्ययन, जैन साहित्य, हिंदू ज्योतिष । अपने विचार और टिप्पणियां अत्यधिक प्रशंसित किया जाएगा। लेखक edupediapublications@gmail.com के लिए अपने लेख भेज सकते हैं। सभी पांडुलिपियों त्वरित समकक्ष समीक्षा प्रक्रिया और (पहले प्रकाशित नहीं और एक अन्य पत्रिका के प्रकाशन के लिए विचाराधीन नहीं कर रहे हैं जो कर रहे हैं) के लिए उच्च गुणवत्ता के उन लोगों के बाद के अंक में बिना किसी देरी के प्रकाशित किया जाएगा के अधीन हैं। पांडुलिपि के ऑनलाइन जमा करने की जोरदार सिफारिश की है। एक पांडुलिपि नंबर एक सप्ताह या जल्दी के भीतर इसी लेखक के लिए भेज दिया जाएगा। इंटरनेशनल जर्नल की ओर से, मैं अपने सभी साथी शोधकर्ताओं और विद्वानों के लिए मेरे संबंध बढ़ाने और उन्हें अपने क्षेत्र में समृद्धि की कामना करता हूं।

Table of Contents

Articles

हिमांशु हंसराज
PDF
1-2
सुमित शर्मा
PDF
3
राजकुमारी देवी
PDF
4-5
आयुष आश्विन
PDF
6-7
तृप्ति कुमारी
PDF
8-9
देव कुमार शर्मा
PDF
10-11
उमेश कुमार
PDF
12
आरती आरती
31-32
नीरजा सिंह
PDF
33-40